सर्वोत्तम उदाहरण और सुझाव

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास
क्रिप्टोकरेंसी पर परामर्श पत्र लगभग तैयार

क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है हिंदी में (CryptoCurrency Kya Hai In Hindi)

Cryptocurrency: 'समुद्री लुटेरों की दुनिया के जैसी है क्रिप्टोकरेंसी'- आखिर भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार को क्यों कहनी पड़ी ये बात?

By: ABP Live | Updated at : 11 Jun 2022 07:48 AM (IST)

Cryptocurrency News: क्रिप्टोकरेंसी दुनिया (World) में नए मुकाम स्थापित करने में लगी है और कई देशों में उसे करंसी के समान ही ट्रीट किया जा रहा है. लेकिन भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार को लगता है ये समुद्री लुटेरों की दुनिया के समान है. दरअसल भारत की मुद्रा की कसौटी पर इसे खरा उतरता हुआ अभी तक नहीं देखा गया है. यही वजह है कि इसके लिए इस तरह की बाते की जा रही हैं.

देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वरन ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को विनियमित (Regulate) करना भी मुश्किल होगा. क्रिप्टोकरेंसी की फिएट करेंसी से तुलना करते हुए उन्होंने कहा कि फिएट सरकार द्वारा समर्थित मुद्रा है और यह किसी कीमती धातु की जगह जनता के सरकार में भरोसे (Trust) पर टिकी होती है.

भारत का पहला क्रिप्टोकरेंसी इंडेक्स लॉन्च, इसमें बिटकॉइन, एथेरियम और सीबा इनु जैसी 15 क्रिप्टो शामिल

भारत का पहला क्रिप्टोकरेंसी इंडेक्स लॉन्च हो गया है

भारत का पहला क्रिप्टोकरेंसी इंडेक्स लॉन्च हो गया है

gnttv.com

  • मुंबई,
  • 05 जनवरी 2022,
  • (Updated 05 जनवरी 2022, 5:10 PM IST)

कंपनी का दावा 80% से ज्यादा बाजार कवर किया

India's First Cryptocurrency Index IC15: क्रिप्टोकरेंसी को ट्रैक करने के लिए भारत का पहला क्रिप्टोकरेंसी इंडेक्स लॉन्च हो गया है. मुंबई की फाइनेंशियल कंटेट प्रोवाइडर कंपनी टिकरप्लांट ने अपने ऐप क्रिप्टोवायर के जरिए क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास इसे लॉन्च किया है. इसे आईसी-15(IC15) नाम दिया गया है. कंपनी के मुताबिक यह दुनियाभर के 15 नामी लिक्विड क्रिप्टोकरेंसी के परफॉर्मेंस को ट्रैक करता है और बाजार के नियमों पर आधारित व्यापक मार्केट इंडेक्स है.

आईसी-15 के इंडेक्स के टॉप क्रिप्टोकरेंसी में बिटकॉइन, एथेरियम, बिटकॉइन कैश, चेन लिंक, पोल्का डॉट, कार्डानो, लिटेकॉइन, एवलॉन्च, बाइनेंस कॉइन, सोलाना, एक्सआरपी, सीबा इनु, टेरा, यूनीस्वैप और डोजीकॉइन शामिल हैं.

कंपनी का दावा 80% से ज्यादा बाजार कवर किया
इंडेक्स की बेस वैल्यू 10,000 पर सेट और बेस डेट 1 अप्रैल 2018 है. 1 जनवरी 2022 तक इंडेक्स ओपन वैल्यू 71,463.30 पॉइंट थी. कंपनी ने कहा कि इंडेक्स बाजार की 80 प्रतिशत से ज्यादा गतिविधियों को कवर करता है. यह एक क्रिप्टो के बाजार को ट्रैक करने का सबसे अच्छा टूल है.

क्रिप्टो इतिहास की सबसे बड़ी चोरियों में से एक : हैकरों ने 600 मिलियन डॉलर की डिजिटल करेंसी पर हाथ किया साफ

क्रिप्टो इतिहास की सबसे बड़ी चोरियों में से एक : हैकरों ने 600 मिलियन डॉलर की डिजिटल करेंसी पर हाथ किया साफ

हैकर्स ने 600 मिलियन डालर के क्रिप्टोकरेंसी पर हाथ किया साफ

क्रिप्टोकरेंसीज (cryptocurrency) को लेकर भारत सहित पूरी दुनिया में क्रेज बढ़ता जा रहा है. इस वजह से हैकर्स इसमें सेंधमारी की अक्सर कोशिश करते हुए दिखाई देते हैं. मंगलवार को हैकर्स ने 600 मिलियन डॉलर से अधिक मूल्य की क्रिप्टोकरेंसी चुरा ली. इसके लिए हैकर्स ने एक लोकप्रिय ऑनलाइन गेम एक्सी इन्फिनिटी (Axie Infinity) के प्लेयर्स द्वारा उपयोग किए जाने वाले डिजिटल लेजर की मदद ली. रोनिन नेटवर्क (Ronin Network) ने कहा कि 173,600 ether और 25.5 मिलियन मूल्य की स्टेबल क्वाइन को अपना टार्गेट बनाया. 23 मार्च को चोरी होने पर इसकी कीमत 545 मिलियन डॉलर थी, लेकिन मंगलवार की कीमतों के आधार पर इसकी कीमत लगभग 615 मिलियन डॉलर हो गई. इसे क्रिप्टो के इतिहास में दुनिया की चोरी की बड़ी घटनाओं में से एक माना जा रहा है.

यह भी पढ़ें

रोनिन ने चोरी का खुलासा करते हुए एक पोस्ट में कहा कि अधिकांश हैक किए गए फंड अब भी हैकर के वॉलेट में हैं. उन्होंने कहा कि हैकर्स ने डिजिटल फंड निकालने के लिए 'प्राइवेट की' की मदद ली है. रोनिन ने कहा कि हम जानते हैं कि ट्रस्ट अर्जित करने की आवश्यकता है. भविष्य में ऐसी चीजें न हो, हम हर कोशिश कर रहे हैं. हम यह सुनिश्चित करने के लिए कानून प्रवर्तन अधिकारियों, फोरेंसिक क्रिप्टोग्राफरों (forensic cryptographer) और अपने निवेशकों के साथ काम कर रहे हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यूजर्स को फंड की कोई नुकसान न हो.

Axie Infinity में बैटल के दौरान प्लेयर्स कलरफूल ब्लॉब Axies का उपयोग करते हैं. इस दौरान "Smooth Love Potion (SLPs)" के तौर पर कई रिवार्ड मिलते हैं. इन्हें क्रिप्टोकरेंसी या नकदी के लिए एक्सचेंज किया जा सकता है. गेम खेलने के लिए प्लेयर्स को सबसे पहले कम से कम तीन एक्सिस खरीदने होंगे. एक Axie एक एनएफटी है.

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास (History of Cryptocurrency in Hindi)

क्रिप्टोकरेंसी की शुरुवात 2009 में हुई थी जिसका नाम बिटकॉइन था. जापान के इंजिनियर सतोषी नाकमोतो ने बिटकॉइन को बनाया था. शुरुवात में यह इतना ज्यादा Popular नहीं था, लेकिन धीरे – धीरे क्रिप्टोकरेंसी के रेट बहुत अधिक बढ़ने लगे और देखते ही देखते क्रिप्टोकरेंसी बहुत अधिक महंगी हो गयी जिसके बाद से लोगों का ध्यान क्रिप्टोकरेंसी पर गया और लोग इसमें निवेश करने लगे.

2009 में क्रिप्टोकरेंसी की Value 1 रूपये थी लेकिन आज 45 लाख 1 बिटकॉइन की Value है. शुरुवात में क्रिप्टोकरेंसी को illegal कर दिया था लेकिन क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास धीरे – धीरे क्रिप्टोकरेंसी की लोकप्रियता को देखकर कुछ देशों ने इसे Legal कर दिया. अभी भी बहुत सारे ऐसे देश हैं जहाँ क्रिप्टोकरेंसी illegal है. भारत की बात करें तो यहाँ क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से Legal है

कुछ प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी के नाम

वैसे तो सैकड़ों क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं पर इनमें से कुछ प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी जो अच्छा Perform कर रहे हैं उनके नाम निम्न हैं –

  • बिटकॉइन (Bitcoin)
  • इथेरयम (Ethereum)
  • रेडकॉइन (Redcoin)
  • सोलाना (Solana)
  • रिप्पल (Ripple)
  • लाइटकॉइन (Litecoin)
  • मोनेरो (Monero)
  • तेथेर (Tether)
  • डोज़ कॉइन (Dogecoin)
  • शीबा एनु (Shiba Coin)

क्रिप्टोकरेंसी के फायदे (Advantage of Cryptocurrency in Hindi)

क्रिप्टोकरेंसी के अनेक सारे फायदे हैं जिनमें से कुछ के बारे में हमने लेख में बताया है –

  • क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी है, इसमें fraud होने की संभावना बहुत कम है.
  • क्रिप्टोकरेंसी फिजिकल फॉर्म में उपलब्ध नहीं रहती है, इसे हम तिजोरी या बैंक में नहीं रख सकते हैं, जिसके कारण क्रिप्टोकरेंसी के चोरी होने, क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास कट – फट जाने या खो जाने की संभावना नहीं होती है.
  • क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड करना बहुत आसान है. आप क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड करके अच्छे पैसे कमा सकते हैं.
  • क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना अच्छा विकल्प है, क्योंकि इसकी कीमतों में तेजी से उछाल आते हैं.
  • क्रिप्टोकरेंसी को किसी बैंक, सरकार या देश के द्वारा संचालित नहीं किया जाता है. यह एक स्वतंत्र करेंसी है.
  • क्रिप्टोकरेंसी बहुत Secure है क्योंकि इसमें Cryptography Algorithm का इस्तेमाल किया गया है.

बिटकॉइन वॉलेट

चुकी बिटकॉइन एक आभासी मुद्रा है इसलिए इसे अपने घर या पॉकेट में नहीं रख सकते. बिटकॉइन को रखने के लिए बिटकॉइन ऑनलाइन वॉलेट अकाउंट की जरुरत होती है. इन्टरनेट के माध्यम से वॉलेट अकाउंट बनाया जा सकता है. प्रत्येक बिटकॉइन वॉलेट अकाउंट का एक विशिष्ट एड्रेस होता है.
बिटकॉइन खरीदने से पहले उस विशिष्ट वॉलेट एड्रेस की जरूरत होती है. जिसमे बिटकॉइन को रखा जाता है. बिटकॉइन वॉलेट में रखे बिटकॉइन को बेचा या अपनी बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर किया जा सकता है.

चूकि बिटकॉइन का कोई भोतिक रूप नहीं है इसलिए इसकी माइनिंग का मतलव इसके निर्माण से है. अर्थात बिटकॉइन को कैसे बनाएं नई बिटकॉइन बनाने के तरीके को बिटकॉइन माइनिंग कहा जाता है. बिटकॉइन माइनिंग का काम करने वाले ऑपरेटर को बिटकॉइन माइनरस कहते है.
माइनिंग का काम वही लोग करते हैं जो जिनके पास के पास विशेष गणना वाले कंप्यूटर और गणना करने की उचित क्षमता (तीव्र पप्रोसेसिंग वाले शक्तिशाली कंप्यूटर) हो ऐसा नहीं होने पर माइनरस केवल इलेक्ट्रिसिटी ही खर्च करेगा और अपना समय बर्बाद करेगा.
जिस प्रकार प्रत्येक देश में नोट छापने की एक सीमा होती है उसी प्रकार बिटकॉइन बनाने की भी एक सीमा होती है. और इसकी सीमा ये है कि मार्केट में 21 मिलियन से ज्यादा बिटकॉइन नहीं आ सकते है. अभी तक मार्केट में लगभग 13 मिलियन बिटकॉइन आ चुके हैं.

बिटकॉइन के लोकप्रिय होने के कारण

  • इसके लेन-देन में कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लगता है.
  • यह सुरक्षित और तेज है जिससे लोग बिटकॉइन स्वीकार करने के लिए प्रोत्साहित हो रहे हैं.
  • क्रेडिट कार्ड की तरह इसमें कोई क्रेडिट लिमिट नहीं होती है न ही कोई नगदी लेकर घूमने की समस्या है.
  • खरीदार की पहचान का खुलासा किए बिना पूरे बिटकॉइन नेटवर्क के प्रत्येक लेन-देन के बारे में पता किया जा सकता है.
  • बिटकॉइन को आप दुनिया में कही भी बेच या खरीद सकते है.
  • बिटकॉइन में सरकार आप पर नजर नहीं रखती है.
  • वर्तमान में लोग कम कीमत पर बिटकॉइन खरीद कर ऊंचे दामों पर बेच कर कारोबार कर रहे हैं.

बिटकॉइन के लेन-देन के लिए बिटकॉइन एड्रेस का प्रयोग किया जाता है. कोई भी ब्लॉकचेन में अपना खता बनाकर इसके ज़रिये बिटकॉइन का लेन-देन कर सकता है. बिटकॉइन की सबसे छोटी संख्या को सातोशी कहा जाता है. एक बिटकॉइन में 10 करोड़ सातोशी होते हैं. यानी 0.00000001 बिटकॉइन (BTC) को एक सातोशी कहा जाता है.
बिटकॉइन खरीदने के निम्नलिखित तीन तरीके है:

बिटकॉइन के क्या नुकसान है?

बिटकॉइन में कोई सेंट्रलाइज कंट्रोलिंग अथॉरिटी, बैंक, या कोई सरकार अधिकृत की प्रणाली नहीं है जिसकी बजह से इसकी कीमत कम ज्यादा होती रहती है.
अगर बिटकॉइन अकाउंट हैक हो जाता है तो इसमें जमा बिटकॉइन बापस नहीं लिया जा सकता क्यूंकि इसके लिए कोई कंट्रोलिंग अथॉरिटी या कोई सरकारी एजेंसी नहीं है जहाँ इसकी शिकायत किया जा सके.

कई अर्थशास्त्रियों द्वारा बिटकॉइन को पोंज़ी स्कीम घोषित किया गया है. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 24 दिसम्बर 2013 को बिटकॉइन जैसी वर्चुअल मुद्राओं के सम्बन्ध में एक प्रेस प्रकाशनी जारी की गयी थी. इसमें कहा गया था की इन मुद्राओं के लेन-देन को कोई अधिकारिक अनुमति नहीं दी गयी है और इसका लेन-देन करने में कईं स्तर पर जोखिम है. हाल ही में रिजर्व बैंक ने पुन: इसके बारे में सावधानी जारी की थी.

रेटिंग: 4.14
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 766
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *