विदेशी मुद्रा विश्वकोश

कॉल ऑप्शन का उदाहरण

कॉल ऑप्शन का उदाहरण
फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है | Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

शेयर मार्केट में आप अलग अलग प्रकार से शेयर खरीद और बेच सकते है जैसे इंट्राडे (Intraday ), डिलीवरी (Delivery) अदि। इसी प्रकार से शेयर मार्केट में हम इसमें फ्यूचर एंड ऑप्शन (Future And Option Trading) ट्रेडिंग भी कर सकते है। फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है

अगर आप फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग करना चाहते है और इसके बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस लेख को अंतिम तक जरूर पढ़े क्योकि इसमें आपको शेयर मार्केट के बारे में और फ्यूचर एंड ऑप्शन (Future and Option) के बारे में सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराई है।

Future and Option Trading

फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

Derivative Market क्या है ? (What is Derivative Market?)

सिम्पल शब्दो में बोले तो, डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) एक प्रकार का कांटेक्ट (Contract) होता है जिसका वैल्यू कोई भी एक तारीख तक सिमित होता है उसके बाद कॉन्ट्रैक्ट (contact) का वैल्यू जीरो हो जाता है जिसे हम डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) कहते है।

डेरीवेटिव मार्केट, दो संस्थाओ के बिच एक कॉन्ट्रैक्ट को दर्शाता है इसमें दरअसल शेयरों का आदान प्रदान करके पैसा कमाया जाता है। what are Future and Option

Derivative Market के प्रकार (Types of Derivative Markets)

  1. Forward
  2. Future
  3. Option
  4. Swap

फ्यूचर्स ट्रेडिंग क्या है ? (What is Futures Trading?)

स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल होता है फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Future trading) डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) का एक अहम हिस्सा है जिसका एक अपना ट्रेडिंग Base होता है इसमें लोग फ्यूचर को को आधार मानकर ट्रेडिंग करते है। इसे हम उदाहरण से समझते है –

माना एक लड़का है जिसे फ्यूचर में आईपीएल के एक मैच का टिकट खरीदना है लेकिन मैच के दिनांक के समय उस टिकट का प्राइस बढ़ने वाला है तो वह लड़का अभी के प्राइस में उस टिकट को न खरीद कर उसके बदले एक डील या कॉन्ट्रैक्ट करता है कि आने वाले समय में उस टिकट का भाव बढ़े या घटे उसे अभी के प्राइस पर वह टिकट मिल जायगा लेकिन उस टिकट की समय अवधि उस मैच के दिनांक पर निर्धारित करेगा।

इस लेख में हम फ्यूचर्स ट्रेडिंग की सारी जानकारी आपको देंगे कि फ्यूचर्स ट्रेडिंग कैसे किया जाता है ?, इसमें कितना प्रॉफिट और लॉस हो सकता है ?

फ्यूचर्स ट्रेडिंग कैसे किया जाता है ? (How is future trading done?)

फ्यूचर ट्रेडिंग में हमे फ्यूचर के हिसाब से शेयर खरीदना और फिर बेचना होता है इसमें समय सिमा निर्धारित होता है जिसमे आपको अपने खरीदे गए शेयर को समय से पहले बेचना होता है इसका समय निर्धारित महीने के अंतिम सप्ताह में होता है। फ्यूचर एंड ऑप्शन के बारे में जाने।

ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है ? (What is Options Trading?)

जिस प्रकार स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल है उसी प्रकार ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) का भी महत्व पूर्ण भूमिका होता है ऑप्शंस ट्रेडिंग का अर्थ विकल्प होता है जो अपने अर्थ के अनुसार ही स्टॉक मार्केट में कार्य करता है।

ऑप्शंस ट्रेडिंग में आपको शेयर खरीदने के लिए बहोत सारे विकल्प मिल जायेंगे जिसमे आप अपने बजट के अनुसार शेयर को खरीद और बेच सकते है। इसमें कम लागत में अधिक लाभ कमा सकते है वो भी कम जोखिम में।

कॉल ऑप्शन क्या है ? (What is Call Option?)

कॉल ऑप्शन, ऑप्शंस ट्रेडिंग का ही एक हिस्सा होता है जिसमे मार्केट के इंडेक्स के माध्यम से देख कर सावधानी पूर्वक शेयर या लोट को उसके प्रीमियम के कीमत के आधार पर खरीदना होता है।

इसमें एक समय सिमा निर्धारित होती है जिसके अनुसार मार्केट में उतार चढ़ाओ बना रहता है और इसमें आप अपने अनुसार समय सिमा चुन सकते है।

कॉल ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के ऊपर के खरीद को कॉल ऑप्शन कहते है इसका सही मतलब मार्केट के वृद्धि से होता है अगर मार्केट स्ट्राइक प्राइस से ऊपर चली जाती है जो मार्केट की तेजी को दर्शाता है उस समय हमे कॉल ऑप्शन को खरीदना होता है।

पुट ऑप्शंस क्या है ? (What are put options?)

पुट ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के नीचे के खरीद को पुट ऑप्शन कहते है पुट ऑप्शन कॉल ऑप्शन की तरह ही काम करता है इसमें भी सारे कॉल ऑप्शन के तरह ही शेयर को खरीदा और बेचा जाता है बस फर्क इतना है कि इसमें स्ट्राइक प्राइस के नीचे या कॉल ऑप्शन के विपरीत शेयर खरीदा जाता है जिसका मतलब मार्केट में मंदी से है अगर मार्केट में गिरावट हो तब हमे पुट ऑप्शन को खरीदना चाहिए।

इसे भी पढ़े ..

फ्यूचर्स ट्रेडिंग क्या है ?

स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल होता है फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Future trading) डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) का एक अहम हिस्सा है जिसका एक अपना ट्रेडिंग Base होता है इसमें लोग फ्यूचर को को आधार मानकर ट्रेडिंग करते है। इसे हम उदाहरण से समझते है –

ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है ?

जिस प्रकार स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल है उसी प्रकार ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) का भी महत्व पूर्ण भूमिका होता है ऑप्शंस ट्रेडिंग का अर्थ विकल्प होता है जो अपने अर्थ के अनुसार ही स्टॉक मार्केट में कार्य करता है।

कॉल ऑप्शन क्या है ?

कॉल ऑप्शन, ऑप्शंस ट्रेडिंग का ही एक हिस्सा होता है जिसमे मार्केट के इंडेक्स के माध्यम से देख कर सावधानी पूर्वक शेयर या लोट को उसके प्रीमियम के कीमत के आधार पर खरीदना होता है।

पुट ऑप्शंस क्या है ?

पुट ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के नीचे के खरीद को पुट ऑप्शन कहते है पुट ऑप्शन कॉल ऑप्शन की तरह ही काम करता है इसमें भी सारे कॉल ऑप्शन के तरह ही शेयर को खरीदा और बेचा जाता है बस फर्क इतना है कि इसमें स्ट्राइक प्राइस के नीचे या कॉल ऑप्शन के विपरीत शेयर खरीदा जाता है जिसका मतलब मार्केट में मंदी से है अगर मार्केट में गिरावट हो तब हमे पुट ऑप्शन को खरीदना चाहिए।

Option Prices and Valuation क्या है

नमस्कार मित्रों आज हम आपको इस पोस्ट में बताने जा रहे हैं की Option Prices and Valuation क्या है क्या होता है इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं और हम आपको यह भी बताने वाले हैं कि ऑप्शन क्या है, कॉल ऑप्शन क्या है क्या होता है सो गए इस पोस्ट पर

Table of Contents

Trading में Option Prices and Valuation क्या है?

In-The-Money (ITM) क्या है?

“इन-द-मनी” वाक्यांश का अर्थ है कि आपके विकल्प का वर्तमान में अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत के आधार पर मूल्य है। कॉल ऑप्शन के मामले में, यह तब होता है जब स्ट्राइक मूल्य स्टॉक के बाजार मूल्य से नीचे होता है। उदाहरण के लिए, यदि किसी कॉल ऑप्शन का स्ट्राइक मूल्य $30 है और स्टॉक की कीमत वर्तमान में $35 है, तो विकल्प को इन-द-मनी माना जाता है।

कीमत स्टॉक के मौजूदा बाजार मूल्य से अधिक है। उदाहरण के लिए, यदि विकल्प का स्ट्राइक मूल्य $35 है और स्टॉक $30 पर कारोबार कर रहा है, तो पुट विकल्प इन-मनी है। किसी भी मामले में, स्ट्राइक मूल्य और वर्तमान मूल्य के बीच जितना बड़ा अंतर होगा, विकल्प अनुबंध का मूल्य उतना ही अधिक होगा।

Share Market Tips: आ रहा है मार्केट से मुनाफा कमाने का मौका, इन शेयरों में निवेश से होगी आपकी चांदी

Share Market Tips P C : Pixabay

Share Market Tips एक्सपायरी की घबराहट भारत में हमेशा होती है क्योंकि इसे ऑप्शन मार्केट यानी कॉल और पुट के जरिए नियंत्रित किया जाता है। उदाहरण के लिए गुरुवार को साप्ताहिक समाप्ति के दिन 9 मिलियन 15800 कॉल्स लिखे गए थे जबकि 7.8 मिलियन 15700 पुट लिखे गए थे।

नई दिल्ली, किशोर ओस्तवाल। यह फिर से एक अस्थिर सप्ताह था। 15800-15820 का आंकड़ा चखने के बाद बाजार में कमजोरी के संकेत दिखे। इससे पहले कि हम अपने निष्कर्षों को सही परिप्रेक्ष्य में रखें, यह स्पष्ट कर दें कि 14200 से 15900 तक बाजार को ले जाने वाले बहुत शक्तिशाली हैं और अगर उन्होंने निफ्टी में 1700 अंकों की रैली लायी है, तो वे और 100 अंक हासिल करने में सक्षम हैं, जिससे निफ्टी 16000 के मनोवैज्ञानिक आंकड़े को पार कर जाए। यहां तक ​​कि हमारा 15900 का अनुमानित लक्ष्य भी किसी रणनीति का हिस्सा नहीं था। जब आप नो मैन्स लैंड में होते हैं, तो लक्ष्य निर्धारित करना मुश्किल होता है। 17500 और 18500 के हमारे लक्ष्य वित्त वर्ष 2022 के लिए आय वृद्धि पर आधारित है, जो क्यूई आवंटन के अनुमानित प्रवाह के साथ युग्मित हैं।

एक्सपायरी की घबराहट भारत में हमेशा होती है, क्योंकि इसे ऑप्शन मार्केट, यानी कॉल और पुट के जरिए नियंत्रित किया जाता है। उदाहरण के लिए, गुरुवार को साप्ताहिक समाप्ति के दिन 9 मिलियन "15800" कॉल्स लिखे गए थे, जबकि 7.8 मिलियन "15700" पुट लिखे गए थे। सामान्य तौर पर, एक छोटा ट्रेडर 15700 को एक बड़े सपोर्ट के रूप में महसूस करते हुए हमेशा 15,700 के पास लॉन्ग जाता है। फिर, निफ्टी कुछ ही समय में गिरकर 15600 पर आ जाता है। इस पर ट्रेडर्स लॉन्ग और सेल कॉल्स को स्क्वायर-ऑफ कर देते हैं और फिर हम निफ्टी को 15700+ पर वापस देखते हैं।

Jagran Expert Column: Investment Era in tech companies will return

सबसे पहले, 7.8 मिलियन पुट (आमतौर पर 4 मिलियन) लिखना एक मार्केट ऑपरेटर का काम है, न कि किसी आम आदमी का। हम कह सकते हैं कि ऐसा करके उन्होंने एक तीर से दो निशाने लगाए हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि एक तो वे सभी रिटेल पॉजिशंस को खा रहा है और उसी समय शायद एक खाते से दूसरे खाते में लाभ स्थानांतरित कर रहा है।

शुक्रवार को वैश्विक संकेत उतने बुरे नहीं थे। डाउ नीचे था लेकिन नैस्डैक ऊपर था। मीडिया नए वैरिएंट में संभावित तीसरी लहर पर चर्चा करता रहा और वह भी अगले 10 दिनों में, इसने ट्रेडर्स में दहशत पैदा कर दी। इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से ऐसा कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। लेकिन मीडिया ने फिर से लॉकडाउन की अवधारणा को उछाला और अकेले महाराष्ट्र में 8 लाख सक्रिय मामलों की भविष्यवाणी की (वर्तमान में 1.3 लाख मामले हैं)। जो लोग मीडिया का अनुसरण करते हैं, वे हार जाएंगे, जबकि स्मार्ट निवेशक अपना होमवर्क स्वयं करेंगे, और समय-समय पर कॉन्ट्रा कॉल लेंगे।

जब हमने कारोबारी सत्र के दौरान शुक्रवार की गिरावट का लाइव विश्लेषण किया, तो हमने पाया कि निफ्टी सिर्फ 3 लाख शेयरों की मात्रा के साथ 15778 पर चला गया, यानी लगभग 80 अंक ऊपर। फिर यह केवल 7 लाख शेयरों की मात्रा के साथ 15600 तक गिर गया। मात्रा करीब 15600 के स्तर पर बढ़ने लगी, जो चार्ट पर एक बड़ा सपोर्ट था, जो टूट गया। स्टॉप लॉस ट्रिगर हो गए और जब हम 15465 के निचले स्तर पर पहुंचे, तो निफ्टी वॉल्यूम 32 लाख शेयर की थी। एक थंब रूल के अनुसार, जब वॉल्यूम गायब होती हैं, तो यह हमेशा एक झूठा अलार्म होता है। हमने निफ्टी में 250 अंकों की तेजी के लिए खरीदारी शुरू की और ऐसा हुआ।

हमने मेटल शेयरों में अच्छी तेजी देखी और ट्रेडिंग कम्युनिटी इससे चूक गई। यह स्वाभाविक है, कि जब आप कुछ गंवा देते हैं, तो आप उससे नफरत करते हैं और शॉर्ट करने के मौके ढूंढते हैं। ठीक ऐसा ही मेटल शेयरों के साथ हुआ। मेटल रैली अभी खत्म नहीं हुई है। हमने 50% देखा है, शेष देखा जाना बाकी है। कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि यह अभी शुरू हुई है। इस समय, जब चीन ने इन्वेंट्री का उपयोग करने की घोषणा की, तो उसने एक तस्वीर दी कि मेटल क्षेत्र में सब कुछ खत्म हो गया है और ट्रेडर्स ने हर तरह से मेटल के शेयरों को शॉर्ट करना शुरू कर दिया है। कृपया ध्यान दें कि चीन एक शुद्ध आयातक है। उन्होंने प्रदूषण के कारण कई संयंत्र बंद कर दिए हैं।

उन्होंने बेहद हताशा में इन उपायों की घोषणा की है। हमारा मानना ​​है कि वे लंबे समय तक इसका इस्तेमाल नहीं कर सकते। वे 10% निर्यात लेवी का भी प्रस्ताव कर रहे हैं। कृपया "Angang Steel" को देखें, जो चीन के सबसे बड़े इस्पात उत्पादकों में से एक है, जिसका अनुमान है कि इसका पहला आधा लाभ साल दर साल लगभग 860% बढ़कर 4.8 बिलियन युआन हो जाएगा। टैक्स लगाने का यही कारण है। चीन की कार्रवाई को देखते हुए दुनिया के अन्य देश भी धातु की कीमतों में और वृद्धि करेंगे और चीन उच्च कीमतों पर धातु की खरीद फिर से शुरू करने के लिए मजबूर होगा। हम दोहराते हैं कि जब तक QE जारी रहेगा, धातुओं, खनिजों और संसाधनों में धन का प्रवाह बना रहेगा। इसलिए, धातु शेयरों को शॉर्ट करना आत्मघाती है।

आजकल, इंट्राडे में भी गिरावट होती हैं। जब 15600 और 15500 का स्तर टूटा, तो बाजार हल्का हो गया। नई मार्जिन व्यवस्था की वजह से सस्ती कीमतों के कारण मुंह में पानी आने पर भी कोई नहीं खरीद सकता और जो खरीद सकते हैं, उनमें विश्वास की कमी है। अमेरिकी शेयरों ने अपने घाटे को बढ़ाया, क्योंकि सेंट लुइस फेड के अध्यक्ष जिम बुलार्ड ने सीएनबीसी पर कहा कि केंद्रीय बैंक से पहली दर वृद्धि 2022 में आने की संभावना है।

इस तरह के बयान देने की क्या जरूरत थी, जब फेड ने स्पष्ट किया था कि 2023 में दरों में बढ़ोतरी होगी। हम देखेंगे कि समय के साथ इसमें बदलाव किया जाएगा, जो डाउ की दिशा को बदल देगा।

जून में अब तक एफपीआई 15000 करोड़ रुपये के शुद्ध खरीदार थे और इसलिए किसी एक दिन बेचने से रुझान नहीं बदलता है। कल सकारात्मक एफआईआई नंबरों को एसबीआई कार्ड ब्लॉक डील और एफटीएसई री बैलेंसिंग फ्लो टाटा स्टील और ओएनजीसी के लिए समायोजित किया गया था। अगर निफ्टी फिर से 15500 के करीब जाता है, तो हमें लगता है कि यह खरीदारी करने का अच्छा मौका होगा।

वैकल्पिक तर्क यह है कि लगभग सभी पेनी स्टॉक अपर सर्किट में थे। वे खुले, पहले कुछ मामलों में लोअर सर्किट मारा और फिर ऊपरी सर्किट मारा। इस प्रक्रिया में, खुदरा अब बाहर हो गया है। ये शेयर अब कई अपर सर्किट से टकराएंगे। यदि यह तेजी का अंत होता, तो ये पेनी स्टॉक्स निचले सर्किटों में आ सकते थे। ध्यान रहे, हमने व्हाट्सएप ग्रुप्स में एक मैसेज सर्कुलेट होते देखा है, जिसमें लिखा था, ''अडानी पावर ने लोअर सर्किट और रिलायंस पावर ने अपर सर्किट को हिट किया'' यह सपने में भी कभी नहीं सोचा था।

आईपीओ में 20000-25000 करोड़ रुपये से अधिक की लाइन है। वहां एंकर निवेशकों के साथ-साथ मर्चेंट बैंकरों की भी प्रतिबद्धता है। अगर बाजार की रैली खत्म हो जाती, तो ये बड़े निवेशक (बाजार चालकों का हिस्सा) टॉस के लिए जाते। यह संभव नहीं है, क्योंकि वे बाजारों को नियंत्रित करते हैं। हां, निश्चित रूप से कुछ पैसा आईपीओ में प्रवाहित होगा, लेकिन यह हमेशा अतिरिक्त बैंक धन होता है, जिसका उपयोग बड़े आवेदन करने के लिए किया जाता है।

इस प्रकार, सभी संकेत अवांछित फैट को हटाने के लिए नियमित गिरावट की ओर हैं, जिसके बिना नई ऊंचाई संभव नहीं है। इसलिए, 15,900 से 15465 (2.73%) तक गिरावट देखने के बाद, जो बहुत स्वस्थ है, हम जल्द से जल्द एक नई ऊंचाई की उम्मीद कर सकते हैं। हमने अपने निफ्टी के 16600 के लक्ष्य को बरकरार रखा है। निवेशकों को डिप्स में खरीदने के लिए भी तैयार रहना चाहिए और यह तभी संभव है, जब आप इसके लिए तैयार हों।

बैंक निफ्टी ने भी 34000 तक अपनी गिरावट पूरी कर ली है। विजय माल्या के शेयरों की बिक्री से एसबीआई को 6200 करोड़ रुपये की वसूली की उम्मीद से बैंकिंग क्षेत्र में सकारात्मक संकेत जाएगा, जिससे सभी बैंक शेयरों को मदद मिलेगी। यह वर्तमान समय की सबसे बड़ी उपलब्धि है। सभी डिफॉल्टर्स किसी न किसी तरह से सेटलमेंट के लिए आगे आ रहे हैं। भारत की बैंकिंग प्रणाली मजबूत होती जा रही है। हमने सेंट्रम कैपिटल पर 18 रुपये प्रति शेयर पर खरीदारी शुरू की। अब खबर आई कि उसे "स्मॉल बैंक" का लाइसेंस मिल गया है। इसकी कीमत बढ़कर 54 रुपये प्रति शेयर हो गई है। रिसर्च की प्रक्रिया में कुछ अन्य शेयरों को खोजना जारी रहेगा जिनमें समान रूप से बढ़ने की क्षमता है।

टेस्ला पर बुलिश, लेकिन शेयर बहुत महंगे? एक 'गरीब व्यक्ति की कवर्ड कॉल' का प्रयास करें

Tesla (NASDAQ: TSLA ), जो वर्तमान में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) बाजार में सबसे महत्वपूर्ण नाम है, ने 26 जुलाई को दूसरी तिमाही आय की घोषणा की। हालांकि कंपनी ने उम्मीदों को मात दी, मंगलवार दोपहर को स्टॉक लगभग 2% गिरकर 644.78 डॉलर पर बंद हुआ।

2021 में अब तक TSLA के शेयर 10.5% नीचे हैं। हालांकि, पिछले एक साल में, स्टॉक ने 115% से अधिक की वापसी की है; जनवरी के अंत में यह रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। 52-सप्ताह की सीमा $273.00 - $900.40 रही है और इसका मार्केट कैप 611.2 बिलियन डॉलर है।

Image

2021 में अब तक शेयर की कीमत में गिरावट के बावजूद, स्ट्रीट इस बात से सहमत है कि स्टॉक में महत्वपूर्ण वृद्धि की संभावना हो सकती है। वास्तव में, कई देशों में, विशेष रूप से चीन में, इसकी बाजार में पैठ अपने शुरुआती दिनों में है। इसलिए, यह वॉल स्ट्रीट पर सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले शेयरों में से एक है।

Investing.com के माध्यम से किए गए 35 विश्लेषकों में से, इसका औसत 12-महीने का मूल्य लक्ष्य $691.40 है, जो 6% से अधिक का प्रतिफल दर्शाता है।

इसलिए, संभावित निवेशक अपने दीर्घकालिक पोर्टफोलियो के लिए स्टॉक खरीदने पर विचार कर सकते हैं। हालांकि, टेस्ला स्टॉक के 100 शेयरों में निवेश करने पर लगभग 64,478 डॉलर खर्च होंगे, जो कि ज्यादातर लोगों के लिए काफी निवेश है।

कुछ इसके बजाय स्टॉक पर "गरीब व्यक्ति की कवर्ड कॉल" को एक साथ रखना पसंद कर सकते हैं। इसलिए आज हम LEAPS ऑप्शनों का उपयोग करके टेस्ला पर एक विकर्ण डेबिट स्प्रेड पेश करते हैं। इस तरह की रणनीति का उपयोग कभी-कभी काफी कम लागत पर कवर की गई कॉल पोजीशन को दोहराने के लिए किया जाता है।

ऑप्शन के लिए नए निवेशक आगे पढ़ने से पहले, LEAPS ऑप्शन (उदाहरण के लिए, यहां और यहां) पर हमारे पिछले लेखों को फिर से देखना चाह सकते हैं।

टेस्ला स्टॉक पर एक विकर्ण डेबिट स्प्रेड

वर्तमान मूल्य: $644.78

एक व्यापारी पहले कम स्ट्राइक मूल्य के साथ "दीर्घकालिक" कॉल खरीदता है। साथ ही, ट्रेडर एक "लघु-अवधि" कॉल को उच्च स्ट्राइक मूल्य के साथ बेचता है, जिससे एक लंबा विकर्ण स्प्रेड बनता है।

इस प्रकार, अंतर्निहित स्टॉक के कॉल ऑप्शन में अलग-अलग स्ट्राइक और अलग-अलग समाप्ति तिथियां होती हैं। ट्रेडर एक ऑप्शन को लंबा करता है और दूसरे को छोटा करके एक विकर्ण फैलाव बनाता है।

इस रणनीति में, लाभ क्षमता और जोखिम दोनों सीमित हैं। व्यापारी शुद्ध डेबिट (या लागत) के लिए पोजीशन स्थापित करता है। शुद्ध डेबिट अधिकतम हानि का प्रतिनिधित्व करता है।

इस तरह की रणनीति में प्रवेश करने वाले अधिकांश व्यापारियों को अंतर्निहित सुरक्षा-यहां, टेस्ला पर हल्का सा बुलिश होगा। TSLA के 100 शेयर खरीदने के बजाय, ट्रेडर डीप-इन-द-मनी LEAPS कॉल ऑप्शन खरीदेगा, जहां वह LEAPS कॉल स्टॉक के मालिक होने के लिए "सरोगेट" के रूप में कार्य करता है।

इस रणनीति के पहले चरण के लिए, ट्रेडर डीप इन-द-मनी (ITM) LEAPS कॉल खरीद सकता है, जैसे TSLA 20 जनवरी, 2023, 450-स्ट्राइक कॉल ऑप्शन। यह ऑप्शन वर्तमान में $285.80 पर उपलब्ध है। इस कॉल ऑप्शन का मालिक बनने के लिए ट्रेडर को $28,580 का खर्च आएगा, जो 100 शेयरों को एकमुश्त खरीदने के लिए $64,478 के बजाय करीब डेढ़ साल में समाप्त हो जाता है।

इस ऑप्शन का डेल्टा 80 के करीब है। डेल्टा वह राशि दिखाता है, जिसकी अंतर्निहित सुरक्षा में $1 परिवर्तन के आधार पर एक ऑप्शन की कीमत बढ़ने की उम्मीद है।

यदि टेस्ला का स्टॉक $1, बढ़कर $645.78 हो जाता है, तो 285.80 के मौजूदा ऑप्शन मूल्य में 80 के डेल्टा के आधार पर लगभग 80 सेंट की वृद्धि होने की उम्मीद है। हालांकि, वास्तविक परिवर्तन कई अन्य कारकों के आधार पर थोड़ा अधिक या कम हो सकता है। इस लेख के दायरे से बाहर हैं।

इसलिए जैसे-जैसे पैसे की गहराई में जाता है, ऑप्शन का डेल्टा बढ़ता जाता है। ट्रेडर्स डीप ITM LEAPS स्ट्राइक का उपयोग करेंगे क्योंकि जैसे-जैसे डेल्टा 1 के करीब पहुंचता है, LEAPS ऑप्शन की कीमत की चाल अंतर्निहित स्टॉक के समान दिखने लगती है। सरल शब्दों में, 80 का डेल्टा इस उदाहरण में स्टॉक के 80 शेयरों के मालिक होने जैसा होगा (जैसा कि एक नियमित कवर्ड कॉल में 100 के विपरीत)।

इस रणनीति के दूसरे चरण के लिए, ट्रेडर आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) शॉर्ट-टर्म कॉल बेचता है, जैसे TSLA 17 सितंबर, 2021, 660-स्ट्राइक कॉल ऑप्शन। इस ऑप्शन का वर्तमान प्रीमियम $38.60 है। ट्रेडिंग कमीशन को छोड़कर ऑप्शन विक्रेता को $3,860 प्राप्त होगा।

रणनीति में दो समाप्ति तिथियां हैं, जिससे इस व्यापार में ब्रेक-ईवन बिंदु के लिए एक सटीक सूत्र देना काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसे ट्रेड सेटअप के लिए विभिन्न ब्रोकर "लाभ-हानि कैलकुलेटर" की पेशकश कर सकते हैं।

पिछले महीने (यानी, LEAPS कॉल) के मूल्य की गणना करते समय, जब फ्रंट-माह (यानी, छोटी-दिनांकित) कॉल ऑप्शन समाप्त हो जाता है, तो ब्रेक-ईवन पॉइंट के लिए "गेस्टीमेट" प्राप्त करने के लिए एक मूल्य निर्धारण मॉडल की आवश्यकता होती है।

अधिकतम लाभ क्षमता

अधिकतम क्षमता का एहसास तब होता है जब स्टॉक की कीमत उसकी समाप्ति तिथि पर शॉर्ट कॉल के स्ट्राइक मूल्य के बराबर होती है। इसलिए ट्रेडर चाहता है कि टेस्ला के शेयर की कीमत शॉर्ट ऑप्शन (यानी, यहां $660.00) के स्ट्राइक प्राइस के जितना करीब हो सके, समाप्ति पर (17 सितंबर, 2021 को) बिना इससे ऊपर जाए।

यहां, सिद्धांत रूप में, अधिकतम रिटर्न, ट्रेडिंग कमीशन और लागतों को छोड़कर, समाप्ति पर $660.00 की कीमत पर लगभग $4,624 होगा। (हम एक ऑप्शन लाभ-हानि कैलकुलेटर का उपयोग करके इस मूल्य पर पहुंचे)।

इस तरह के कैलकुलेटर के उपयोग के बिना, हम अनुमानित डॉलर मूल्य पर भी पहुंच सकते हैं। चलो एक नज़र डालते हैं:

ऑप्शन विक्रेता (यानी, व्यापारी) को बेचे गए ऑप्शन के लिए $3,860 प्राप्त हुए। इस बीच, अंतर्निहित टेस्ला स्टॉक $ 644.78 से बढ़कर $ 660.00 हो गया। यह TSLA के प्रति शेयर $15.22, या 100 शेयरों के लिए $1,522 का अंतर है।

क्योंकि लॉन्ग LEAPS ऑप्शन का डेल्टा 80 के रूप में लिया जाता है, लॉन्ग ऑप्शन का मूल्य, सिद्धांत रूप में, $1,522 X 0.8 = $1,217.60 (हालांकि, व्यवहार में, यह इस मान से अधिक या कम हो सकता है।)

कुल $3,860 और $1,217.60 का मूल्य $5,077.60 है। हालांकि यह $4,624 के समान नहीं है, हम इसे एक अच्छे अनुमानित मूल्य के रूप में मान सकते हैं (१७ सितंबर तक, लॉन्ग ऑप्शन समय के क्षय के कारण अपना कुछ मूल्य खो देगा, और परिणाम में अंतर में योगदान देगा)।

जाहिर है, अगर हमारे लॉन्ग ऑप्शन का स्ट्राइक मूल्य अलग होता (यानी, $450.00 नहीं), तो इसका डेल्टा भी अलग होता। फिर हमें अनुमानित अंतिम लाभ या हानि मूल्य पर पहुंचने के लिए उस डेल्टा मूल्य का उपयोग करने की आवश्यकता है।

यहां, शुरू में TSLA के 100 शेयरों में $64,478 का निवेश न करने से, ट्रेडर के संभावित रिटर्न का लाभ उठाया जाता है।

आदर्श रूप से, ट्रेडर को उम्मीद है कि शॉर्ट कॉल आउट-ऑफ-द-मनी (बेकार) समाप्त हो जाएगी। फिर, ट्रेडर एक के बाद एक कॉल बेच सकता है, जब तक कि लंबी LEAPS कॉल लगभग डेढ़ साल में समाप्त नहीं हो जाती।

पोजीशन प्रबंधन

एक विकर्ण डेबिट स्प्रेड में सक्रिय पोजीशन प्रबंधन आम तौर पर नौसिखिए व्यापारियों के लिए अधिक कठिन होता है।

अगर टेस्ला 17 सितंबर को 660 डॉलर से ऊपर है, तो पोजीशन संभावित अधिकतम रिटर्न से कम कमाएगी क्योंकि शॉर्ट-डेटेड ऑप्शन पैसे खोना शुरू कर देगा।

फिर, यदि कीमत बढ़ती है और शॉर्ट कॉल गहरे आईटीएम में फंस जाती है, तो व्यापारी को व्यापार को जल्दी बंद करने की आवश्यकता महसूस हो सकती है।

रेगुलर कवर्ड कॉल में, ट्रेडर को शॉर्ट ऑप्शन दिए जाने में कोई आपत्ति नहीं हो सकती है क्योंकि उसके पास टेस्ला के 100 शेयर भी हैं। हालांकि, एक गरीब व्यक्ति की कवर्ड कॉल में, ट्रेडर जरूरी नहीं कि शॉर्ट कॉल असाइन करना चाहेगा क्योंकि उसके पास वास्तव में अभी तक उन TSLA शेयरों का स्वामित्व नहीं है।

17 सितंबर को, यदि TSLA शेयर की कीमत लगभग $ 603 या उससे कम हो जाती है, तो सैद्धांतिक रूप से, यह LEAPS कवर्ड कॉल ट्रेड भी पैसा खोना शुरू कर देगा। जाहिर है, एक स्टॉक की कीमत $0 तक गिर सकती है, इसके साथ लॉन्ग कॉल का मूल्य कम हो सकता है।

भविष्य के सप्ताहों में, हम ऑप्शन रणनीतियों के विभिन्न उदाहरणों के साथ अपनी चर्चा जारी रखेंगे।

Future और Options ट्रेडिंग क्या है What is Future Trading and Option Trading Hindi

Best stocks for 2022 शेयर मार्किट के अन्दर आज बहुत से इन्वेस्टर इन्वेस्ट करते है और इन्वेस्टमेंट करते समय बहुत से सवाल मन में आते है जैसे ; 2022 में शेयरों में निवेश करने की योजना? स्टॉक ट्रेंड से आगे रहना चाहते हैं? 2022 में आपको किन शेयरों में निवेश करना चाहिए? क्या स्टॉक में निवेश करने के लिए 2022 एक अच्छा साल होगा? 2022 में निवेश पर सबसे अच्छा रिटर्न कौन सा स्टॉक होगा? हम 2022 में शेयर बाजार से क्या उम्मीद कर सकते हैं? आदि

Future Trading and Option Trading Hindi

इसलिए सभी शेयर मार्किट में इन्वेस्टमेंट करने से पहले बहुत रिसर्च करते है उसके बाद इन्वेस्टमेंट करते है अब 2022 आने वाला है और सभी इन्वेस्टर इसी बात के बारे में सोच रहे की कौन से स्टॉक में पैसे लगाये कौन सा ऊपर जायेगा या फिर किस प्रकार से शेयर मार्किट से पैसा कमाया जाये तो इस आर्टिकल में हम आपको Future और Options ट्रेडिंग जो शेयर मार्किट से अच्छे पैसे कमाने का तरीका है उसके बारे में विस्तार से बतायेंगे |

Future और Options ट्रेडिंग Future Option Trading Hindi

शेयर बाजार निवेश और Trading Purposes के लिए कई प्रोडक्ट प्रदान करता है। उनमें से कुछ म्यूचुअल फंड, इक्विटी, आईपीओ, एनसीडी, बॉन्ड, डेरिवेटिव आदि हैं। आइए हम डेरिवेटिव की Category में आने वाले फ्यूचर्स और विकल्पों के बारे में जानें। डेरिवेटिव अनुबंध हैं जो दो पक्षों के बीच एक निश्चित मूल्य और निश्चित समय पर अंतर्निहित परिसंपत्ति को खरीदने या बेचने के लिए तैयार किए जाते हैं। ये जोखिम प्रबंधन उपकरण हैं

जो जोखिम लेने के लिए तैयार लोगों को जोखिम स्थानांतरित करने में मदद करते हैं। डेरिवेटिव 4 प्रकार के होते हैं: फॉरवर्ड, फ्यूचर्स, ऑप्शंस और स्वैप। futures और options अनुबंधों का उपयोग जोखिम को कम करने और अत्यधिक अस्थिर स्थिति में लाभ कमाने के लिए हेजिंग टूल के रूप में किया जाता है। वस्तुओं की कीमतें अचानक बढ़ सकती हैं या गिर भी सकती हैं। यह भविष्य के अनुबंधों के महत्व की आवश्यकता है। सबसे पहले, आइए पढ़ें कि शेयर बाजार में फ्यूचर ट्रेडिंग क्या है

फ्यूचर क्या है

What are futures? :- फ्यूचर्स दो पक्षों के बीच किए गए agreement होते हैं, जिसमें वे भविष्य में किसी विशेष समय पर एक निश्चित मूल्य पर किसी विशेष संपत्ति को खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते हैं। यह शामिल जोखिम और नुकसान को कम करने में मदद कॉल ऑप्शन का उदाहरण कॉल ऑप्शन का उदाहरण करता है। मान लीजिए कि आप सोयाबीन के किसान हैं, अच्छी बारिश हो रही है और इसलिए सोयाबीन की आपूर्ति अधिक है और इसलिए कीमतें नीचे आती हैं।

एक किसान के रूप में आपको नुकसान होगा। सोयाबीन के खरीदार के बारे में अभी सोचिए। अप्रत्याशित सूखे के कारण सोयाबीन की कीमतों में तेजी आई है। इसलिए एक खरीदार के रूप में, उसे अधिक भुगतान करना पड़ता है और इसलिए उसे नुकसान का सामना करना पड़ता है। इन नुकसानों से बचने के लिए फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में प्रवेश करना जरूरी है।

यह बाजार के उतार-चढ़ाव के बावजूद आपकी रक्षा करेगा। उदाहरण के लिए, सोयाबीन की कीमत रु। 3 महीने के बाद 350, लेकिन अगर आपने पहले ही रुपये पर Futures अनुबंध कर लिया है। 400 रुपये का लाभ होगा। 50 भले ही बाजार मूल्य रु। 350. इस तरह आप भविष्य की मांग, कीमत का अनुमान लगा सकते हैं और नुकसान भी कम कर सकते हैं। आप वायदा अनुबंध के मामले में वास्तव में कम मार्जिन का उपयोग करके व्यापार कर सकते हैं

ऑप्शन क्या हैं? Future Option Trading Hindi

What are Options ? :- ऑप्शन Contract buyer को अधिकार देता है, लेकिन वह संपत्ति खरीदने या बेचने के लिए बाध्य नहीं है। जबकि Contract buyer का seller ऑप्शन contract buyer के निर्णय के आधार पर संपत्ति खरीदने या बेचने के लिए बाध्य है। उदाहरण के लिए, आपके पास एक बाइक है और आपने बाइक के लिए रु. का बीमा खरीदा है। 10000. अगर आपकी बाइक खराब हो जाती है

तो आपको एग्रीमेंट के अनुसार आपका बीमा क्लेम मिलेगा। लेकिन अगर ऐसा कोई नुकसान नहीं होता है, तो आपके द्वारा भुगतान किया गया प्रीमियम बीमा कंपनी की आय बन जाता है। ऑप्शन खरीदार के मामले में, वापसी की संभावना असीमित है जबकि जोखिम या हानि केवल प्रीमियम तक ही सीमित है।

ऑप्शन विक्रेता के मामले में, रिटर्न प्रीमियम तक सीमित है जबकि इसमें शामिल जोखिम असीमित है। कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन कॉल ऑप्शन का उदाहरण नाम से 2 तरह के ऑप्शन होते हैं

1. कॉल ऑप्शन ;- इस मामले में, owner के पास Property खरीदने का अधिकार है लेकिन उसके पास कोई obligation नहीं है। उदाहरण के लिए, आपने सोनू के साथ टीसीएस शेयर रुपये पर खरीदने के लिए कॉल ऑप्शन अनुबंध किया। 500. बाजार में टीसीएस की कीमत रु. 600. तो आप निश्चित रूप से सोनू से रुपये में शेयर खरीदना पसंद करेंगे।

500 रुपये देने के बजाय। 100 और। आपका लाभ रु. इस मामले में 100. यदि शेयर की कीमत बाजार में 400 रुपये है, तो आप इसे सोनू से खरीदने के बजाय बाजार से खरीदना पसंद करेंगे। तो सोनू को यहाँ क्या लाभ होता है? जब आप एक अनुबंध में प्रवेश करते हैं, तो आपको एक प्रीमियम का भुगतान करना होता है। इसलिए यदि आप सोनू से शेयर नहीं खरीदते हैं, तो भी वह आपके द्वारा पहले भुगतान किए गए प्रीमियम के कारण लाभान्वित होता है।

2. पुट आप्शन :- पुट ऑप्शन खरीदार को बेचने का अधिकार है, लेकिन contract को बेचने का कोई दायित्व नहीं है और पुट ऑप्शन विक्रेता को खरीदने का दायित्व है। इस मामले में भी, अनुबंध का खरीदार प्रीमियम का भुगतान करता है। अनुबंध buyer के मामले में लाभ असीमित है जबकि अनुबंध seller के मामले में यह सीमित है

फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है?

What is future and option trading? फ्यूचर्स और ऑप्शंस का एक फायदा यह है कि आप इन्हें विभिन्न एक्सचेंजों पर स्वतंत्र रूप से trading कर सकते हैं। उदा. आप स्टॉक एक्सचेंजों पर स्टॉक फ्यूचर्स और विकल्पों का व्यापार कर सकते हैं, कमोडिटी एक्सचेंजों पर कमोडिटी आदि। एफ एंड ओ ट्रेडिंग के बारे में सीखते समय, यह समझना आवश्यक है कि आप अंतर्निहित परिसंपत्ति पर कब्जा किए बिना ऐसा कर सकते हैं।

हालांकि, हो सकता है कि आप सोने को खरीदने में दिलचस्पी न लें, फिर भी आप सोने के वायदा और विकल्पों में निवेश करके वस्तुओं की कीमतों में उतार-चढ़ाव का लाभ उठा सकते हैं। इन मूल्य परिवर्तनों से लाभ के लिए आपको बहुत कम पूंजी की आवश्यकता होगी।

कमोडिटी में फ्यूचर और ऑप्शन Future Option Trading Hindi

Futures and options in commodities :-कमोडिटी में फ्यूचर और ऑप्शननिवेशकों के लिए एक और विकल्प हैं। हालांकि, कमोडिटी बाजार अस्थिर हैं, इसलिए उनमें कॉल ऑप्शन का उदाहरण केवल तभी उद्यम करना बेहतर है जब आप काफी जोखिम उठा सकते हैं। चूंकि कमोडिटी के लिए मार्जिन कम है, इसलिए काफी उत्तोलन की गुंजाइश है। उत्तोलन लाभ के अधिक अवसर प्रस्तुत कर सकता है, लेकिन जोखिम समान रूप से अधिक होता है।

आप भारत में कमोडिटी एक्सचेंजों जैसे मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) और नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स) के माध्यम से कमोडिटी फ्यूचर्स और विकल्पों का व्यापार कर सकते हैं।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि फ्यूचर और ऑप्शन क्या हैं क्योंकि वे दुनिया में एक आवश्यक वित्तीय भूमिका निभाते हैं। वे कीमतों में उतार-चढ़ाव के खिलाफ बचाव में मदद करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि बाजार तरल हो। एक जानकार निवेशक भी इन डेरिवेटिव में निवेश करके लाभ कमा सकता है।

यदि आपको यहFuture Option Trading Hindi की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये |

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 407
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *