भारतीय व्यापारियों के लिए गाइड

डॉलर हुआ मजबूत

डॉलर हुआ मजबूत
कौन करता है मदद?
इस तरह की स्थितियों में देश का केंद्रीय बैंक RBI अपने भंडार और विदेश से खरीदकर बाजार में डॉलर की आपूर्ति सुनिश्चित करता है.

Economy रुपये सात पैसे टूटकर 81.81 प्रति डॉलर पर

मुंबई: घरेलू शेयर बाजार में कमजोरी के रुख और विदेशी बाजारों में डॉलर के मजबूत होने से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया सात पैसे टूटकर 81.81 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया तेजी के साथ 81.84 पर खुला।

कारोबार के दौरान रुपया 81.74 के दिन के उच्चस्तर और 81.91 के निचले स्तर को छूने के बाद अंत में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले सात पैसे की गिरावट के साथ 81.81 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। रुपया शुक्रवार को 10 पैसे की गिरावट के साथ 81.74 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। बीएनपी पारिबा बाय शेयरखान में अनुसंधान विश्लेषक अनुज चौधरी ने कहा कि कमजोर घरेलू बाजारों और मजबूत डॉलर के कारण रुपये में गिरावट आई।

विदेशी संस्थागत निवेशकों की निकासी से रुपये पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा। इस बीच, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.83 प्रतिशत की तेजी के साथ 107.81 हो गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.76 प्रतिशत घटकर 86.95 डॉलर प्रति बैरल रह गया।

रुपये के कमजोर या मजबूत होने का मतलब क्या है?

रुपये के कमजोर या मजबूत होने का मतलब क्या है?

विदेशी मुद्रा भंडार के घटने और बढ़ने से ही उस देश की मुद्रा पर असर पड़ता है. अमेरिकी डॉलर को वैश्विक करेंसी का रुतबा हासिल है. इसका मतलब है कि निर्यात की जाने वाली ज्यादातर चीजों का मूल्य डॉलर में चुकाया जाता है. यही वजह है कि डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत से पता चलता है कि भारतीय मुद्रा मजबूत है या कमजोर.

अमेरिकी डॉलर को वैश्विक करेंसी इसलिए माना जाता है, क्योंकि दुनिया के अधिकतर देश अंतर्राष्ट्रीय कारोबार में इसी का प्रयोग करते हैं. यह अधिकतर जगह पर आसानी से स्वीकार्य है.

इसे एक उदाहरण से समझें
अंतर्राष्ट्रीय कारोबार में भारत के ज्यादातर बिजनेस डॉलर हुआ मजबूत डॉलर में होते हैं. आप अपनी जरूरत का कच्चा तेल (क्रूड), खाद्य पदार्थ (दाल, खाद्य तेल ) और इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम अधिक मात्रा में आयात करेंगे तो आपको ज्यादा डॉलर खर्च करने पड़ेंगे. आपको सामान तो खरीदने में मदद मिलेगी, लेकिन आपका मुद्राभंडार घट जाएगा.

Dollar vs Rupee: गिरावट से उभरा रुपया, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 12 पैसे बढ़त पर बंद

Viren Singh

Dollar vs Rupee

Dollar vs Rupee (सोशल मीडिया)

Dollar vs Rupee: भारतीय मुद्रा रुपया में एक बार फिर रौनक लौट आई है। सप्ताह के दूसरे कारोबारी दिन मंगलवार को रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 12 पैसे की तेजी के साथ 81.67 (अनंतिम) डॉलर हुआ मजबूत डॉलर हुआ मजबूत पर बंद हुआ।

रुपया 81.72 पर खुला

मंगलवार को शुरुआती डॉलर हुआ मजबूत कारोबार में इंटरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया 81.72 पर खुला। ग्रीनबैक के मुकाबले 81.64 के इंट्रा-डे हाई और 81.83 के निचले स्तर को छुआ। इससे पहले बीते कारोबारी सत्र में रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 5 पैसे की गिरावट के साथ 81.79 पर बंद हुआ था।

दुनिया भर में भारतीय उत्पादों की धूम, निर्यात के क्षेत्र में दिखा ‘न्यू इंडिया’ का सामर्थ्य

उल्लेखनीय है कि पिछले 7-8 साल में पीएम मोदी ने देश को मजबूत करने के लिए सरकारी नीतियां में कई बड़े बदलाव किए। आज उन्हीं का परिणाम है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय उत्पादों की मांग तेजी से बढ़ रही है। केवल इतना ही नहीं ‘मेक इन इंडिया’ और ‘मेड इन इंडिया’ पहलों के बलबूते आज भारत ने अपने उत्पादों के लिए वैश्विक पहचान बना ली है। आज भारत ही नहीं, विदेशों में भी भारतीय वस्तुओं की काफी डिमांड है।

‘उद्यमी भारत’ के रूप में उभर रहा देश

खास बात यह है कि भारत ने कोविड महामारी के दुष्रभाव और मंदी की आशंका को पीछे छोड़ते हुए ये कमाल कर दिखाया है। इसी के चलते आज उद्यमी भारत एक नए जोश के साथ आगे बढ़ रहा है। इसकी ताजा मिसाल एक्सपोर्ट यानि निर्यात के मोर्चे से सामने आई है।

यदि देश के ओवरऑल एक्सपोर्ट की बात करें तो इसमें ‘मर्चेडाइज’ (Merchandise) और ‘सर्विसेज’ (Services) दोनों ही शामिल हैं। बता दें अक्टूबर 2021 में देश का ओवरऑल एक्सपोर्ट 56.10 बिलियन अमेरिकी डॉलर था जो अक्टूबर 2022 में 4% से अधिक की ग्रोथ के साथ बढ़कर 58.36 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया है।

निर्यात के क्षेत्र डॉलर हुआ मजबूत में बन रहे नए-नए रिकॉर्ड

वहीं अगर अप्रैल से अक्टूबर तक की अवधि को देखें तो 2021 में ओवरऑल एक्सपोर्ट करीब 372 बिलियन अमेरिकी डॉलर था जो कि 2022 में अप्रैल से अक्टूबर के दौरान 19 प्रतिशत से ज्यादा की ग्रोथ के साथ बढ़कर करीब 445 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया है।

इससे एक बात साफ है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत निर्यात के क्षेत्र में नए-नए रिकॉर्ड बना रहा है। वहीं भारत की इकोनॉमी मजबूत हो रही है और देश आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ा रहा है।

याद हो, मार्च, 2022 में पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में बताया था कि किस तरह भारतीय वस्तुओं की मांग विदेश में तेजी से बढ़ रही है। इस संबंध में पीएम ने कहा था कि भारत ने 400 बिलियन डॉलर, यानि करीब 30 लाख करोड़ रुपए के निर्यात का लक्ष्य हासिल किया है। पीएम मोदी ने साथ डॉलर हुआ मजबूत ही यह भी कहा था कि एक समय में भारत से निर्यात का आंकड़ा कभी 100 बिलियन, कभी डेढ़-सौ बिलियन, कभी 200 बिलियन तक हुआ करता था, आज भारत 400 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया है। इसका एक मतलब ये है कि दुनिया भर में भारत में बनी चीजों की मांग बढ़ रही है, दूसरा मतलब ये कि भारत की सप्लाई चेन दिनों-दिन और मजबूत हो रही है और इसका एक बहुत बड़ा सन्देश भी है। पीएम ने कहा कि देश के कोने-कोने से नए-नए उत्पाद अब विदेश जा रहे हैं।

Dolllar vs Rupee: शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 26 पैसे बढ़कर 81.67 पर

Dolllar vs Rupee: शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 26 पैसे बढ़कर 81.67 पर

मुंबई: अमेरिकी मुद्रा में ऊपरी स्तर से गिरावट के चलते रुपया बृहस्पतिवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 26 पैसे बढ़कर 81.67 पर पहुंच गया. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले 81.72 पर खुला, और फिर मजबूती के साथ 81.67 के स्तर पर पहुंच गया.

इस तरह स्थानीय मुद्रा ने पिछले बंद भाव डॉलर हुआ मजबूत के मुकाबले 26 पैसे की बढ़त दर्ज की. बुधवार को रुपया 18 पैसे की गिरावट के साथ 81.85 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. इस बीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.41 प्रतिशत गिरकर 105.63 पर आ गया. वैश्विक तेल सूचकांक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.21 प्रतिशत गिरकर 85.23 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था. उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक विदेशी निवेशकों ने बुधवार को 789.86 करोड़ रुपये मूल्य के शेयरों की शुद्ध बिक्री की थी. सोर्स-भाषा

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 188
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *